जल ही है, जीवन का आधार

1062

पृथ्वी पर उपस्थित समस्त जीव जन्तुओं और वनस्पतियों के लिए जल अत्यन्त महत्वपूर्ण है क्योंकि जल के बिना कोई भी जैविक क्रिया संभव नहीं होती है। मानव शरीर का 70 प्रतिशत भाग जल से बना है और पौधौं में 40 प्रतिशत पानी होता है। जल के माध्यम से पोषक
तत्व पौधों के सभी भागों में पहुंच जाते हैं और उन्हें हरा बनाए रखते हैं। जल के बिना जीवन संभव नहीं क्योंकि जल ही जीवन का आधार है। पर्यावरणीय असन्तुलन और जलवायु परिवर्तन के कारण जल की उपलब्धता में बड़ा परिवर्तन आया है जिससे पृथ्वी पर पीने के पानी
की समस्या विकराल रूप लेती जा रही है और प्राकृतिक हरियाली भी नष्ट हो रही है। नदियों के पानी का स्तर या तो बहुत कम हो गया है या फिर वे पूरी तरह सूख चुकी हैं। यही कारण है कि नहरों में पानी नजर नहीं आता, फलस्वरूप तालाब, झीलें व पोखर भी सूख रहे हैं। दिनोंदिन वर्षा का स्तर भी कम होता जा रहा है जिससे भूमिगत जल का तल बहुत नीचे जा चुका है। इससे कुएं गुजरे जमाने की चीज हो गये हैं। अधिकांश हैंडपम्प भी गर्मियों में सूख जाते हैं, अगर नहीं भी सूखे तो मुश्किल से पानी निकलता है। एक सर्वे के अनुसार अगले 20 वषों में पीने का पानी समाप्त हो सकता है, जिससे प्राणिजगत मुश्किल में पड़ जाएगा।

प्राचीन काल में जल को एक तत्व समझा जाता था, किन्तु 1781 ई0 में हैनरी कैवेडिश ने यह सिद्व कर दिया कि जल हाइड्रोजन तथा आक्सीजन का एक यौगिक है, जिसमें हाड्रोजनतथा आक्सीजन सदैव एक निश्चित अनुपात (2:1) में रहते हैं। जल एक सर्वोपयोगी प्राकृतिक पदार्थ है। इसके समान न तो कोई यौगिक महत्वपूर्ण है और न ही इतनी प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। यही सभी प्रकार के जीव जन्तुओं और वनस्पतियों के लिये अनिवार्य पदार्थ है। मनुष्य के शरीर में लगभग 80 प्रतिशत जल पाया जाता है। पृथ्वी का लगभग तीन चौथाई भाग जल से घिरा है। इस भूमण्डल पर जल कभी समाप्त नहीं हो सकता परन्तु इसका रूप परिवर्तित हो जाता है। जल कभी ठोस, कभी द्रव, कभी गैस के रूप में हमेशा विद्यमान रहता है। वहीं मात्र 3 प्रतिशत मृदु जल है जिसमें केवल 1 प्रतिशत जल ही पीने योग्य है। बाकी 97 प्रतिशत जल सागरों, महासागरों, झीलों और अन्य जलाशयों में खारे पानी के रूप में पाया जाता है। जो ताप नीचे गया तो बर्फ और ऊंचा हुआ तो वाष्प में परिवर्तित हो जाता है। जब वर्षा का जल या हिम के पिघलने से प्राप्त हुआ जल रिस-रिस कर पृथ्वी के अन्दर चला जाता है तो भूमि के नीचे जल का विशाल भण्डार हो जाता है। इसे भूमिगत जल कहते हैं जो मीठा होता है। यही जल मनुष्य के लिए सर्वाधिक उपयोगी है। जिस स्थान से यह जल आसानी से प्राप्त हो जाता है वहां कुओं, हैण्डपम्पो, सबमर्सिबल तथा नलकूपों की सहायता से मनुष्य अपना घरेलू काम आसानी से कर लेता है।

सिंचाई तथा उद्योगों से सम्बंधित काम भी इसी जल से होते हैं। भूमिगत जल में पोषक तत्व भी होते हैं जिससे पृथ्वी हरी-भरी रहती है। झरनों से भी इसी तरह का जल मिलता है जबकि कृषि और घरेलू कार्यों के लिए जल हमें पथ्वी की ऊपरी सतह से प्राप्त होता है। बिगड़ते पर्यावरण के कारण पृथ्वी के तापमान में वृद्धि हो रही है, जिसके कारण पीने के पानी की समस्या बढ़ती जा रही है। अतएव जल की आवश्यकताओं को देखते हुए भूमिगत जल और भू-पृष्ठीय जल का समुचित उपयोग होना चाहिए। जिससे आने वाले समय में जल की कमी न हो सके। परन्तु विडंबना है कि जहां जल पर्याप्त मात्रा में मिल रहा है वहां मानव उसका दुरुपयोग कर रहा है और जल की बर्वादी पर ध्यान नहीं दे रहा है। जहां पानी की कमी है वहां लोग पानी के लिए बेहद परेशान होते हैं और गर्मियों में तो त्राहि-त्राहि मच जाती है। जल के बिना जीवन संभव नही है तथा पानी का हम बड़ी मात्रा में निर्माण नहीं कर सकते। इसलिए जल की बर्वादी को रोकना हमारा कर्तव्य है और तभी हम भावी पीढ़ी का जीवन सुरक्षित रख सकेंगे। जल में ऑक्सीजन का महत्वपूर्ण रोल है इसलिए अधिक से अधिक वृक्षारोपण भी जरूरी है।

 

Image Sources : Google